0

अपने ह्रदय में उस दीव्य चिंगारी , जिसे अंतरात्मा कहते हैं, को जिंदा रखने के लिए मेहनत करो।